* * * पटना के पैरा-मेडिकल संस्थान नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एजुकेशन एंड रिसर्च जयपुर कें निम्स यूनिवर्सिटी द्वारा अधिकृत कएल गेल। *

Thursday, 29 October, 2009

राज्यपालक सर्कुलर सं हड़कंप

दैनिक जागरण केर 29 नवंबर,2009 केर पटना संस्करण में प्रकाशित खबरक मोताबिक,कुलाधिपति सह राज्यपाल देवानंद कुंवर द्वारा विश्वविद्यालयों के कुलपतिलोकनि कें भेजल गेल सर्कुलर सं उच्च शिक्षा विभाग में हलचल मचि गेल अछि। विभागक मानब छैक जे विश्वविद्यालय सभ में शैक्षणिक माहौल आ वित्तीय अनुशासन कायम करबाक विभागीय प्रयासकें एहिसं झटका लगि सकैत अछि। पूर्व में सेहो कुलाधिपति विभाग के आगाह कए चुकल छथि जे ऊ हद में रहए। शिक्षा विभागक विडंबना अछि जे एक सप्ताह पूर्व भेजल गेल ओहि पत्रक प्रति विभाग के उपलब्ध नहिं कराओल गेल छैक। दोसर दिसि, राजभवन सूत्रक अनुसार, विभाग के पत्रक प्रति प्रेषित कएल जा चुकल छैक। राजभवनक एक वरिष्ठ अधिकारी कहलनि जे विभागीय सचिव के.के.पाठक कुलाधिपति कार्यालय सं संपर्क साधिकए हुनका लेल एक अलग प्रति भेजबाक कएने छथि। हुनका कापी उपलब्ध करएबाक लेल कार्रवाई कएल गेल अछि। उच्च शिक्षा विभाग में बुधवार कए आधिकारिक तौर पर स्वीकार कएल गेल जे चिट्ठी केर मजमून देया विश्वविद्यालयक दिसि सं जानकारी भेट गेल अछि। विश्वविद्यालय सभ के साफ तौर पर कहि देल गेल अछि जे ओ लोकनि शिक्षा विषयक कोनहु मामला में सोझे कुलाधिपति सं संपर्क करथि। एहि संदर्भ में विश्वविद्यालय के अधिनियम आ परिनियम सभहक संदर्भ दैत कहल गेल छैक जे कुलाधिपति आ विभागक क्षेत्र बंटल छैक। तें, विश्वविद्यालय सभ में शैक्षणिक वातावरण कायम रखबाक लेल कुलपतिलोकनि सं अपेक्षा कएल जाइत अछि जे ओ लोकनि दायित्वक निर्वहन में कठिनाई भेला पर सोझे कुलाधिपति कार्यालय सं मार्गदर्शन प्राप्त करथि ने कि विभाग सं। उच्च शिक्षा विभागक एक अधिकारी नाम नहिं छपबाक शर्त पर कहलनि जे विश्वविद्यालय में व्याप्त वित्तीय अनियमितता पर रोक लगएबाक संदर्भ में विभागक अंकेक्षण कार्य पर राजभवन कोनो टिप्पणी नहिं कएने अछि। ओहुना, विश्वविद्यालय सभ के वेतन मद में अनुदान देबाक काज सरकारे के छैक।

No comments:

Post a Comment